दैनिक प्रार्थना

हमारे मन में सबके प्रति प्रेम, सहानुभूति, मित्रता और शांतिपूर्वक साथ रहने का भाव हो


दैनिक प्रार्थना

है आद्य्शक्ति, जगत्जन्नी, कल्याणकारिणी, विघ्न्हारिणी माँ,
सब पर कृपा करो, दया करो, कुशल-मंगल करो,
सब सुखी हों, स्वस्थ हों, सानंद हों, दीर्घायु हों,
सबके मन में संतोष हो, परोपकार की भावना हो,
आपके चरणों में सब की भक्ति बनी रहे,
सबके मन में एक दूसरे के प्रति प्रेम भाव हो,
सहानुभूति की भावना हो, आदर की भावना हो,
मिल-जुल कर शान्ति पूर्वक एक साथ रहने की भावना हो,
माँ सबके मन में निवास करो.

Friday 2 May 2008

टिप्पणी मॉडरेशन सक्षम क्यों कर देते हैं कुछ चिठ्ठाकार?

कुछ चिठ्ठाकार टिप्पणी मॉडरेशन को सक्षम कर देते हैं. पता नहीं ऐसा वह क्यों करते हैं? लोग चिठ्ठा पढ़ते हैं, उस पर अपनी टिपण्णी करते हैं. पर उसे चिठ्ठे पर देख नहीं पाते.

एक चिठ्ठे पर तो मैंने यह देखा कि केवल चिठ्ठे के सदस्य ही टिपण्णी कर सकते हैं. मैंने ऐसा एक चिठ्ठा पढ़ा, मुझे अच्छा लगा. मन में कुछ विचार उठे. टिपण्णी लिखी. पर जब उसे सब्मिट करने गया तो कर नहीं पाया. अच्छा नहीं लगा यह. पर क्या कर सकते हैं. जिन्होनें चिठ्ठा लिखा है उनका अधिकार है यह.

अरे करने दीजिये न लोगों को टिप्पणी दिल खोल कर.

8 comments:

रचना said...

abhi tak maeri nazar mae esa koi blog nahin aaya haen jahaan kewal member hee comment kar saktey ho aap naam baataey phir daekha jaa sakta hae kya vajeh haen

comment moderation bahut jarurii haen kyoki bahust saey log anaam bhi likhtey haen aur bahut sae anaam ashlil kament karte haen

moderation blog owner kaa adhikaar haen jaese aap ne word verification lagaaya haen

aap ko agar apnaa kament daekhna haen aur baaki bhi kament daekhnae haen to aap blog per comment karney saey pehlee sign in karley is say jab aap kament karegey to aap ek tab dikegaa kii kyaa ap ko baaki tippani bhi email kar dee jaaye
aap isko tick kardae to aap ko sab kament email per aaney lagegae
aasha haen mae kuch help kar paaye

meera said...

visfot.com ने यह नियम लागू कर दिया है.

ashish said...

सुरेशजी,
आपने मुद्दा तो बिल्कुल सही उठाया है, लेकिन उन चिट्ठाकारों की मजबूरी नहीं समझी, जिन्होंने अपने टिप्पणी मॉडरेशन को सक्षम किया है। मजबूरी को मैंने अपने ब्लॉग हिन्दी ब्लॉग टिप्स (http://tips-hindi.blogspot.com)पर उजागर करने की चेष्टा की है। गुस्ताखी के लिए क्षमा चाहता हूं.

Suresh Chandra Gupta said...

रचना जी, ऐसा एक ब्लॉग तो है नारी. मैं उस पर अपनी टिपपणी इस लिए पोस्ट नहीं कर पाया क्यों कि मैं उस का सदस्य नहीं हूँ.

रचना said...

naari blog per comment moderation nahin haen aur naahee narii blog per esa koi niyam haen kii app tipaani nahin karpaye kyoki aap us group mae nahin haen
aap please aaj dubaara tipaani jarur kare

आशीष said...

सुरेशजी, किसी भी टिप्पणी को हटाया जाना बिल्कुल सम्भव है. इसकी जानकारी मैं आपको अगली पोस्ट में देने की कोशिश करता हूँ. सादर.
http://tips-hindi.blogspot.com

Gyandutt Pandey said...

लगता है कि प्रारम्भ के फेज में हर ब्लॉगर आपके वाले प्रश्न से गुजरता है। मैने भी लिखा था - कौन से स्पैमर से डर लगता है जी।
बाद में कुछ टिपेरों की उछृंखलता ने विचार बदले। अब आपने भी वर्ड वेरीफिकेशन का झंझट ठेल रखा है न!

lovely kumari said...

ek tippni mujhe mili thi pura prem granth likha huya tha.aap mere blog par aayen aur dekhe kya whan aisa kuchh hai jiske karn aisi harkat ki ja ske isliye moderation enable kran pdta hai.aap word verificaton hta dijiye.abhi hindi blogs me spam aane ki sambhawna nhi ke barabar hai