दैनिक प्रार्थना

हमारे मन में सबके प्रति प्रेम, सहानुभूति, मित्रता और शांतिपूर्वक साथ रहने का भाव हो


दैनिक प्रार्थना

है आद्य्शक्ति, जगत्जन्नी, कल्याणकारिणी, विघ्न्हारिणी माँ,
सब पर कृपा करो, दया करो, कुशल-मंगल करो,
सब सुखी हों, स्वस्थ हों, सानंद हों, दीर्घायु हों,
सबके मन में संतोष हो, परोपकार की भावना हो,
आपके चरणों में सब की भक्ति बनी रहे,
सबके मन में एक दूसरे के प्रति प्रेम भाव हो,
सहानुभूति की भावना हो, आदर की भावना हो,
मिल-जुल कर शान्ति पूर्वक एक साथ रहने की भावना हो,
माँ सबके मन में निवास करो.

Wednesday 2 July 2008

खोज, एक चुटकुला

एक दिन बॉस को छुट्टी के दिन अपने कम्पूटर आपरेटर को जरूरी काम के लिए आफिस बुलाना पड़ा. उसने उस के घर फ़ोन किया. फ़ोन किसी बच्चे ने उठाया. बॉस ने कहा 'हेलो, क्या आपके पापा घर में हैं?'
'हैं', बच्चे ने फुसफुसाती आवाज में कहा.
'क्या में उनसे बात कर सकता हूँ?'
'नहीं', बच्चा फ़िर फुसफुसाया.
'क्या तुम्हारी मॉम घर में हैं?'
'हाँ'
'क्या में उनसे बात कर सकता हूँ?'
'नहीं', बच्चा फ़िर फुसफुसाया.
'क्या कोई और घर में हैं?"
'हाँ, एक पुलिसवाला', बच्चा फुसफुसाया.
'क्या में पुलिसवाले से बात कर सकता हूँ?'
'नहीं, वह बिजी हैं'
'किस बात में बिजी हैं?'
'पापा और मॉम से और फायरमेन से बात कर रहे हैं', फुसफुसाती आवाज आई.
बॉस को चिंता हुई. चिंता और गहरी हो गई जब उन्होंने एक हेलीकाप्टर की आवाज सुनी. उन्होंने पूछा, 'यह आवाज कैसी है?'
'हेलीकाप्टर की' बच्चे ने फुसफुसाते हुए जवाब दिया.
'वहां क्या हो रहा है', बॉस ने पूछा. वह अब काफी परेशान हो गए थे.
फुसफुसाती आवाज में जवाब आया, 'अभी-अभी हेलीकाप्टर से सर्च टीम नीचे उतरी है'
'वह क्या खोज रहे हैं?' बॉस अब काफी चिंतित हो गए थे.
'मुझे', बच्चे ने फुसफुसाया.

3 comments:

राज भाटिय़ा said...

वह सुरेश जी क्या बात हे ,धन्यवाद

jasvir saurana said...

वाहा सुरेश जी बहुत अच्छा चुटुकला.

Udan Tashtari said...

बहुत ही नटखट बच्चा है भई. हैरान कर के रख डाला सबको.