दैनिक प्रार्थना

हमारे मन में सबके प्रति प्रेम, सहानुभूति, मित्रता और शांतिपूर्वक साथ रहने का भाव हो


दैनिक प्रार्थना

है आद्य्शक्ति, जगत्जन्नी, कल्याणकारिणी, विघ्न्हारिणी माँ,
सब पर कृपा करो, दया करो, कुशल-मंगल करो,
सब सुखी हों, स्वस्थ हों, सानंद हों, दीर्घायु हों,
सबके मन में संतोष हो, परोपकार की भावना हो,
आपके चरणों में सब की भक्ति बनी रहे,
सबके मन में एक दूसरे के प्रति प्रेम भाव हो,
सहानुभूति की भावना हो, आदर की भावना हो,
मिल-जुल कर शान्ति पूर्वक एक साथ रहने की भावना हो,
माँ सबके मन में निवास करो.

Wednesday 30 January 2008

दिल्ली से गुड़गॉव

उन्होंने कहा था
दिल्ली से गुड़गॉव लगेंगे १५ से २० मिनट
पहले तो फीता इंतज़ार करता रहा नेता का
फ़िर टोल पर लगने लगी लाइनें
समय अभी भी लगता है १५ से २० मिनट
पर टोल पर रुकते हैं एक घंटा.

No comments: